logo |

समाचार

    घर   >     उद्योग    >     टेक्स्ट

    कोरोना की वजह से पश्चिम बंगाल में ख़ून की कमी से जूझते ब्लड बैंक

    सारांश:इमेज कॉपीरइटSanjay Das / BBCपश्चिम बंगाल में ब्लड बैंक फ़िलहाल ख़ून की भारी किल्लत से जूझ रहे हैं.

      इमेज कॉपीरइटSanjay Das / BBC

      पश्चिम बंगाल में ब्लड बैंक फ़िलहाल ख़ून की भारी किल्लत से जूझ रहे हैं.

      राज्य में मौजूद 108 ब्लड बैंकों में से 74 का संचालन सरकार के हाथों में हैं. इनमें 80 फ़ीसदी में विभिन्न राजनीतिक, सामाजिक संगठनों और क्लबों की ओर से आयोजित किए जाने वाले रक्तदान शिविरों के ज़रिए ख़ून पहुंचता है.

      लेकिन पहले 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के चलते लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल पर पाबंदी और उसके बाद कोरोना की वजह से जनता कर्फ्यू और लॉकडाउन के चलते इस महीने रक्तदान शिविरों का आयोजन ही नहीं किया जा सका है. इसके चलते अब स्थिति गंभीर हो गई है.

      हालात गंभीर होते देख कर स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस सप्ताह इस बारे में एक नई अधिसूचना जारी कर रक्तदान शिविरों के सशर्त आयोजन की अनुमति दी है. लेकिन इससे भी हालात में कोई ख़ास सुधार नहीं आया है.

      सरकार की ओर से जारी सर्कुलर के अगले दिन से ही पूरे देश में 21 दिनों के लॉकडाउन की वजह से समस्या और गंभीर हो गई है.

      इससे एक ओर जहां थैलेसेमिया के मरीज़ों को दिक्कत का सामना करना पड़ा रहा है वहीं कई ऑपरेशनों को भी टालना पड़ रहा है.

      इमेज कॉपीरइटSanjay Das / BBCख़ून की कमी से परेशान होते मरीज़

      राज्य में गर्मी के दिनों में रक्तदान शिविरों के ज़रिए जमा होने वाले ख़ून की मात्रा में लगभग 40 फ़ीसदी गिरावट दर्ज होना सामान्य है.

      लेकिन पहले इस महीने बोर्ड की परीक्षाओं के चलते इन शिविरों का आयोजन नहीं किया जा सका. उनके ख़त्म होने से पहले ही कोरोना का संक्रमण तेज़ी से फैलने लगा. उसकी वजह से जारी लॉकडाउन ने रही-सही कसर भी पूरी कर दी है.

      कोलकाता के लाइफ़लाइन ब्लड बैंक के निदेशक ए. गांगुली बताते हैं, “पश्चिम बंगाल में हर महीने एक लाख यूनिट ख़ून की ज़रूरत होती है. लेकिन इस महीने इसका कलेक्शन बहुत घट गया है. इसकी वजह से लोगों को कई ऐसे ऑपरेशनों की तारीख आगे बढ़ा दी गई है जिनको टाला जा सकता था.”

      गैर-सरकारी संगठन मेडिकल बैंक के सचिव डी. आशीष बीते चार दशकों से रक्तदान शिविरों का आयोजन करते रहे हैं. वह कहते हैं, “ज़िलों में तो हालत और गंभीर है. कोलकाता में भी मरीज़ों को भारी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है.”

      इमेज कॉपीरइटSanjay Das / BBC

      महानगर के एक अस्पताल में दाख़िल अपनी मां के ऑपरेशन के लिए बांकुड़ा के सुबीर भादुड़ी को चार यूनिट ख़ून की ज़रूरत थी. उनके पास डोनर भी थे. लेकिन उनको ब्लड बैंक से मां गे ग्रुप का खून नहीं मिल सका.

      नतीजतन डाक्टरों की सलाह पर अब वह ऑपरेशन 15 अप्रैल तक टल गया है. नियमों के मुताबिक़ किसी भी मरीज़ को जितना ख़ून चाहिए उसके परिजनों को उतना ही ख़ून दान करना पड़ता है. उसके बाद उसी आधार पर उसे संबंधित ग्रुप का ख़ून मुहैया कराया जाता है.

      स्वास्थ्य राज्य मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य कहती हैं, “सरकार परिस्थिति पर निगाह रख रही है. कोरोना वायरस का संक्रमण तेज़ होने के बाद हमने रक्तदान शिविरों के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं. लेकिन लॉकडाउन की वजह से फ़िलहाल ऐसे शिविरों का आयोजन नहीं हो पा रहा है.”

      इमेज कॉपीरइटSanjay Das / BBC

      कड़े नियमऔर पीएम की घोषणा

      स्वास्थ्य विभाग की ओर से 23 मार्च को जारी अधिसूचना में कहा गया है कि रक्तदान शिविरों में 30 से ज़्यादा लोगों को नहीं जुटाया जा सकता और उनमें से एक साथ महज पांच लोग ही शिविर के भीतर जा सकते हैं.

      इसके अलावा बाहर से आने वाला कोई व्यक्ति रक्तदान नहीं कर सकता. बुख़ार और खांसी से पीड़ित लोग भी रक्तदान नहीं कर सकते.

      सरकार ने कहा है कि ऐसे शिविरों में तीन से पांच स्वयंसेवी ही एक साथ रह सकते हैं.

      लेकिन सरकार की ओर से जारी इस अधिसूचना के अगले ही दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों के लॉकडाउन का एलान कर दिया.

      इसकी वजह से अफ़रा-तफ़री मच गई. तमाम लोगों को राशन औऱ दवाओं का स्टाक जुटाने की जल्दी थी. ऐसे में रक्तदान शिविरों के आयोजन के बारे में भला कौन सोचता.

      इमेज कॉपीरइटSanjay Das / BBCImage caption

      स्वास्थ्य राज्य मंत्री, चंद्रिमा भट्टाचार्य

      अब एक साथ ज़्यादा लोगों के जुटने पर पाबंदी की वजह से सरकारी अधिसूचना के बावजूद ऐसे शिविरों का आयोजन नहीं हो पा रहा है. तमाम क्लब और संगठन भी इनके आयोजन से बच रहे हैं.

      साथ ही रक्तदाताओं में भी संक्रमण के डर से खून देने के प्रति उत्साह नहीं है. कई जगह पहले से तय रक्तदान शिविरों को रद्द करना पड़ा है.

      एक सामाजिक संगठन शिवाजी संघ के संयोजक समीरन घोष बताते हैं, “हमने पंद्रह मार्च के बाद तीन शिविरों के आयोजन की योजना बनाई थी. लेकिन पुलिस से अनुमति नहीं मिलने की वजह से इनको रद्द करना पड़ा. वह बताते हैं कि अब लॉकडाउन के बाद लोग भी संक्रमण के डर से रक्तदान के इच्छुक नहीं हैं.”

      “मौजूदा हालात में लॉकडाउन जारी रहने तक ख़ून की कमी दूर होने की उम्मीद कम ही है.”

    •   कोरोना मरीज़ की सलाह -कोरोना वायरस: दिल्ली के पहले मरीज़ की सलाह सुन लीजिए

    •   लक्षण और बचाव - कोरोना वायरस के क्या हैं लक्षण और कैसे कर सकते हैं बचाव

    •   संक्रमण कैसे रोकें - कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के पांच सबसे कारगर उपाय

    •   मास्क पहनें या नहीं -कोरोना वायरस: मास्क पहनना चाहिए या नहीं?

    •   किस जगह कितनी देर ठहराता है वायरस - कोरोना वायरस: किसी जगह पर कितनी देर तक टिक सकता है यह वायरस

    •   आर्थिक असर -कोरोना वायरस का असर आपकी जेब पर होगा?

      इमेज कॉपीरइटGoI

      (बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिककर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्रामऔर यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

    United Arab Emirates Dirham

    • United Arab Emirates Dirham
    • Australia Dollar
    • Canadian Dollar
    • Swiss Franc
    • Chinese Yuan
    • Danish Krone
    • Euro
    • British Pound
    • Hong Kong Dollar
    • Hungarian Forint
    • Japanese Yen
    • South Korean Won
    • Mexican Peso
    • Malaysian Ringgit
    • Norwegian Krone
    • New Zealand Dollar
    • Polish Zloty
    • Russian Ruble
    • Saudi Arabian Riyal
    • Swedish Krona
    • Singapore Dollar
    • Thai Baht
    • Turkish Lira
    • United States Dollar
    • South African Rand

    United States Dollar

    • United Arab Emirates Dirham
    • Australia Dollar
    • Canadian Dollar
    • Swiss Franc
    • Chinese Yuan
    • Danish Krone
    • Euro
    • British Pound
    • Hong Kong Dollar
    • Hungarian Forint
    • Japanese Yen
    • South Korean Won
    • Mexican Peso
    • Malaysian Ringgit
    • Norwegian Krone
    • New Zealand Dollar
    • Polish Zloty
    • Russian Ruble
    • Saudi Arabian Riyal
    • Swedish Krona
    • Singapore Dollar
    • Thai Baht
    • Turkish Lira
    • United States Dollar
    • South African Rand
    वर्तमान दर  :
    --
    रकम
    United Arab Emirates Dirham
    रकम
    -- United States Dollar
    चेतावनी

    WikiFX द्वारा उपयोग किए जाने वाले डेटा एफसीए, एएसआईसी जैसे विनियमन संस्थानों द्वारा प्रकाशित सभी आधिकारिक डेटा हैं। सभी प्रकाशित सामग्री निष्पक्षता, विषय निष्ठता और तथ्य की सच्चाई के सिद्धांतों पर आधारित हैं। यह पीआर शुल्क\विज्ञापन शुल्क\रैंकिंग शुल्क\डेटा हटाने शुल्क सहित ब्रोकर से किसी भी कमीशन को स्वीकार नहीं करता है। WikiFX डेटा को विनियमन संस्थानों द्वारा प्रकाशित उस के अनुरूप रखने की पूरी कोशिश करता है लेकिन रियल टाइम में रखने के लिए प्रतिबद्ध नहीं है।

    विदेशी मुद्रा उद्योग की गतिविधियों को देखते हुए, कुछ ब्रोकर को वित्तीय द्वारा विनियमन संस्थानों द्वारा कानूनी लाइसेंस जारी किए जाते हैं। यदि विकीएफएक्स द्वारा प्रकाशित डेटा तथ्य के अनुसार नहीं है, तो हमें सूचित करने के लिए शिकायतें और सुधार फंशन का उपयोग करें। हम तुरंत जांच करेंगे और परिणाम प्रकाशित करेंगे।

    विदेशी मुद्रा, कीमती धातुएं और ओवर-द-काउंटर (ओशन) अनुबंध लीवरेज्ड उत्पाद हैं, जिनमें उच्च जोखिम हैं और आपके निवेश नीति के नुकसान हो सकते हैं। पृष्ठ निहितता से निवेश करें।

    विशेष सूचना: WikiFX द्वारा प्रदान की गई जानकारी केवल संदर्भ के लिए है और किसी भी निवेश सलाह को इंगित नहीं करता है। निवेशकों को अपने द्वारा ब्रोकर का चयन करना चाहिए। ब्रोकरों के साथ शामिल जोखिम विकीएक्स के प्रासंगिक नहीं है। अपने स्वयं के प्रासंगिक परिणामों और जिम्मेदारियों को सुरक्षित करेंगे।